Breaking News

पीड़ित ने लगाई न्याय की गुहार पत्र खोल रहा पुलिस की पोल ,आला अधिकारियों की गाज से बचने के लिए नोएडा की इकोटेक थर्ड पुलिस ने पीड़ित दलित परिवार की शिकायत को ही बताया झूठा

  • cifnews
  • October 21, 2018
  • Comments Off on पीड़ित ने लगाई न्याय की गुहार पत्र खोल रहा पुलिस की पोल ,आला अधिकारियों की गाज से बचने के लिए नोएडा की इकोटेक थर्ड पुलिस ने पीड़ित दलित परिवार की शिकायत को ही बताया झूठा

जनपद गाजियाबाद

आला अधिकारियों के गाज से बचने के लिए नोएडा के ईकोटेक थर्ड पुलिस ने पीड़ित दलित परिवार की शिकायत को ही बताया झूठा गाजियाबाद नोएडा के थाना इकोटेक थर्ड पुलिस के उत्पीड़न के शिकार एक दलित परिवार को आला अधिकारियों के समक्ष लगाई गई गुहार के बावजूद न्याय मिलता नजर नहीं आ रहा है। 3 सप्ताह पहले दलित परिवार के घर दबिश देकर मकान सील कराने और परिवार की बेटी को नहाते हुए निर्वस्त्र हालत में बाथरूम से बाहर खींचने वाली पुलिस ने अब पीड़ित परिवार को ही झूठा बताकर उच्चाधिकारियों को गुमराह करना शुरू कर दिया है। वहीं पीड़ित परिवार के मुखिया ने एक बार फिर पुलिस महकमे के आला अफसरों को शिकायती पत्र भेजकर कहा है कि नोएडा इकोटेक थर्ड की पुलिस कुछ माह पहले उनके बेटे को फर्जी मुकदमें में जेल भेज चुकी है और अब भी कुछ पुलिसकर्मी षड्यंत्र रचने पर तुले हुए हैं। उन्होंने न्याय न मिलने पर अदालत की शरण में जाने की बात कही उन्होंने प्रधानमंत्री मुख्यमंत्री उपराज्यपाल से भी न्याय व सुरक्षा की गुहार लगाई है।पीड़ित थाना साहिबाबाद क्षेत्र की पप्पू कॉलोनी में रहता है परिवार के मुखिया सतपाल यादव ने बताया कि गत 25 सितंबर को गौतम बुद्ध नगर के कोटेड थाने के एसआई पीतम सिंह कांस्टेबल हिमांशु और कुलदीप समेत आधा दर्जन पुलिसकर्मियों ने एक बदमाश की तलाश में उनकी उनके घर में अचानक दबिश देकर पूरे परिवार से बदसलूकी की थी और उनकी बेटी को नहाते हुए बाथरूम से निवृत्त हालत में बाहर खींच लिया था घटना के दौरान जब लोगों की भीड़ इकट्ठी हुई तो सभी पुलिसकर्मी झूठे मुकदमें में जेल भेजने और मकान को सील कराने की धमकी देते हुए चले गए थे। सतपाल जाटों ने अगले रोज इसी पूरी घटना की शिकायत मुख्यमंत्री जनसुनवाई पोर्टल पर दर्ज कराते हुए अधिकारियों से न्याय की गुहार लगाई थी। किंतु इकोटेक थर्ड थाना पुलिस ने अपने बचाव में शिकायत को पूरी तरह निराधार बताते हुए पीड़ित को झूठा करार दिया। इससे पीड़ित परिवार को आशंका है कि पुलिस वाले किसी भी हद तक षड्यंत्र रच सकते हैं। सतपाल जाटों ने एक बार फिर अधिकारियों को पत्र भेजकर अवगत कराया है। उत्पीड़न का शिकार एक दलित परिवार को आला अधिकारी के समक्ष लगाई गई गुहार के बावजूद न्याय मिलता नजर नहीं आ रहा है।

ब्यूरो कार्यालय- नोएडा