Breaking News देश राजनीति राज्य

ममता के गढ़ में गरजे राहुल गांधी, कहा- बंगाल में सिर्फ एक व्यक्ति के लिए चलाई जा रही है सरकार

कांग्रस अध्यक्ष राहुल गांधी ने पश्चिम बंगाल में मालदा से चुनावी अभियान की शुरुआत की. मालदा में रैली को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि यहां पहले एक संगठन के लिए सरकार चलाई जाती थी और अब एक व्यक्ति के लिए सरकार चलाई जा रही है.

पश्चिम बंगाल के मालदा में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने चुनावी रैली में भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ पूरे विपक्ष को एक साथ साझा मंच पर लाने की कोशिश में लगीं तृणमूल कांग्रेस सुप्रीमो ममता बनर्जी के खिलाफ जमकर हमला बोला. राहुल गांधी ने ममता पर सीधे शाब्दिक बाण चलाए और कहा कि आज पश्चिम बंगाल में एक व्यक्ति के लिए सरकार चलाई जाती है.

ममता के खिलाफ राहुल गांधी के इस बयान के बाद यह स्पष्ट हो गया है कि लोकसभा चुनाव में कांग्रेस पश्चिम बंगाल में टीएमसी के खिलाफ खुलकर मैदान में उतर गई है. राहुल गांधी ने मालदा की चुनावी रैली से पश्चिम बंगाल में पार्टी का चुनाव प्रचार अभियान आरंभ किया. राहुल गांधी ने पश्चिम बंगाल की जनता को संबोधित करते हुए कहा, ‘आपने सालों सीपीएम को देखा, फिर आपने ममता जी को चुना. जो अत्याचार सीपीएम के समय होता था, वही अत्याचार ममता जी के समय में हो रहा है. उस वक्त संगठन के लिए सरकार चलाई जाती थी, आज एक व्यक्ति के लिए चलाई जाती है.’

‘ममता ने बंगाल को बर्बाद कर दिया’

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी बंगाल की धरती से ममता पर तीखा प्रहार किया. वो यहां तक कह गए कि मोदी और ममता की राजनीतिक शैली एक तरह की है. राहुल गांधी ने पश्चिम बंगाल की रैली में कहा, ‘ममता सरकार सीपीएम की पिछली सरकारों से अलग नहीं है. ममता सरकार ने बंगाल को बर्बाद कर दिया है. राहुल गांधी ने कहा कि ममता बनर्जी की कार्यशैली भी नरेंद्र मोदी जैसी है. मोदी भी किसानों की नहीं सुनते और ममता भी किसानों की नहीं सुनतीं. साथ ही उन्होंने कहा कि पश्चिम बंगाल में कांग्रेस की सरकार बनेगी तभी प्रदेश का विकास होगा.’

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने बंगाल में एकला चलो की नीति पर मुहर लगा दी है. कांग्रेस अपनी खोई जमीन पानी के लिए बेताब है. पर उसके सामने मुश्किल कम नहीं है.

अकेले लड़ेगी कांग्रेस?

बता दें कि कांग्रेस ने पश्चिम बंगाल की 11 लोकसभा सीटों पर अपने उम्मीदवारों के नाम की घोषणा कर दी है. इन सीटों पर कांग्रेस ने चुनाव प्रचार अभियान भी शुरू कर दिया है. राहुल गांधी की रैली से पहले प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सोमेन मित्रा ने कहा, ‘उन 11 सीटों पर प्रचार शुरू कर दिया गया है, जहां हमने उम्मीदवारों के नाम की घोषणा कर दी है. पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी पश्चिम बंगाल में आधिकारिक तौर पर चुनाव अभियान शुरू करेंगे. वह हमारी पार्टी के कार्यकर्ताओं के लिए भी एक संदेश देंगे.’ रैली ऐसे समय में की जा रही है जब वाम मोर्चे और कांग्रेस के बीच सीटों को लेकर कोई बंटवारा नहीं हो पाया है और दोनों पक्षों ने अकेले मैदान में उतरने का फैसला किया है.

इधर, शनिवार को ममता बनर्जी के खिलाफ दिखा राहुल गांधी का आक्रामक तेवर यह बताने के लिए काफी है कि कांग्रेस और टीएमसी के बीच की दोस्ती लोकसभा चुनाव आते-आते दुश्मनी में बदल चुकी है. इससे पहले जनवरी में पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की पहल पर पर देशभर की विपक्षी पार्टियों के बड़े नेता और कई राज्यों के मुख्यमंत्री व पूर्व मुख्यमंत्री यूनाइटेड इंडिया रैली में जुटे थे. हालांकि, इस कार्यक्रम में भी राहुल गांधी और सोनिया गांधी नदारद रहे थे.

विफल हुआ महागठबंधन

कांग्रेस की तरफ से इस रैली में मल्लिकार्जुन खड़गे शामिल हुए थे. कांग्रेस ने हर मौके पर ममता को नजरअंदाज करने की कोशिश की. इसके बावजूद ममता बनर्जी केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार के खिलाफ विपक्ष को एकजुट करने में जुटी रहीं. हाल ही में दिल्ली में ममता बनर्जी ने आम आदमी पार्टी और कांग्रेस के बीच गठबंधन कराने के लिए काफी प्रयास किए, लेकिन उनका यह प्रयास भी विफल साबित हुआ.

हालांकि, पश्चिम बंगाल की कांग्रेस इकाई हमेशा से ममता बनर्जी की टीएमसी के खिलाफ रही है. बीते जनवरी में कांग्रेस और टीएमसी के बीच बढ़ी नजदीकियों और फिर राज्य में एक साथ चुनाव लड़ने की बातें सामने आने के बाद वहां के स्थानीय कांग्रेसी कार्यकर्ताओं ने इसका विरोध किया था. पश्चिम बंगाल की कांग्रेस इकाई का कहना था कि वो टीएमसी के साथ गठबंधन में चुनाव नहीं लड़ेंगे. इसके बाद राहुल गांधी ने पश्चिम बंगाल कांग्रेस के नेताओं के साथ कई बैठकें की और अंतत: यह फैसला लिया गया है कि पार्टी अकेले ही लोकसभा चुनाव में अपनी किस्मत आजमाएगी.

ऐसे में राहुल गांधी ने अपनी रैली में ममता के खिलाफ कड़े शब्दों में हमला बोलकर न सिर्फ पश्चिम बंगाल कांग्रेस के कार्यकर्ताओं का हौसला बढ़ाया है बल्कि पार्टी ने प्रदेश में अपनी लाइन को भी स्पष्ट कर दिया है.