Uttar Pradesh अपराध

 पुलिस प्रशासन के सख्त रवैये से नशाखोरी पर लगी लगाम, आम जन ने ली राहत की सांस पुलिस प्रशासन चाहे तो क्या नही कर सकता, ये कहावत मौजूदा जिले के कप्तान अभिषेक यादव ने सिद्ध कर दिखायी है। नशाखोरी के खिलाफ सख्त अभियान चलाकर कप्तान अभिषेक यादव ने फिलहाल किया मुजफ्फरनगर को नशामुक्त, इस बात की ये तस्वीरें गवाह है कि जहां कभी बडे पैमाने पर नशे का कारोबार होता था, आज वहां मासूम बच्चो के खेल का सामान खुलेआम बिक रहा है।

जनपद मुजफ्फरनगर

आम जनता ले रही राहत की सांस जी हां कप्तान अभिषेक यादव ने जिले में आते ही अपने कडे तेंवर दिखाते हुए मीडिया से रूबरू होकर बोला था और कहा था कि सब लिखना, जुआं सटटा, शराब, अवैध कारोबार खास कर गुंडई कतई बर्दाश्त नही की जायेगी। कप्तान ने जो कहा सो किया। जिले में लगातार गुडवर्क देखने को मिल रहे है। अवैध कारोबार करने वालो की तो कमर ही तोड कर रख दी है। ऐसा प्रतीत हो रहा है कि जैसे मानो जिले में आने से पहले कप्तान सौगंध खाकर आये हो कि मुजफ्फरनगर को अवैध कारोबार से मुक्त कराना है। आज वही पुलिस है, सिर्फ कप्तान अभिषेक यादव के कडे निर्देशन में काम करने का तरीका बदल गया। यहां यह बात सिद्ध होती है कि अगर पुलिस प्रशासन चाहे तो क्या नही कर सकता। या यूं कह लीजिये कि अगर रहबर सही हो तो उसकी सेना अंजाम तक पहुचं ही जाती है। पुलिस कप्तान अभिषेक यादव के इन सराहनीय कारनामो से गृहणियो ने राहत की सांस ली है और वो रात दिन कप्तान की सलामती की दुआं मांग रही है। कप्तान के कडे रूख से जहां शरारती एवं असामजिक तत्व, अपराधियो के हौसले पस्त है वही आम राहत की सांस ले रहे है।

ब्यूरो प्रधान कार्यालय